Hindi Shayri by alpprashant : 111317962

सोती आंखें भी अक्सर जागती है रातभर
न आने वालों का क्यों वो करती है इंतज़ार

©"अल्प" प्रशांत
Prashant Panchal
२९.१२.२०

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories