Hindi Shayri by alpprashant

एकबार फ़िर कर ले गुफ्तगू पहेले जैसी
पतझड़ में भी महेंकेगी बहारे पहेले जैसी

©"अल्प" प्रशांत
Prashant Panchal
०३.११.२

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories