Hindi Shayri by alpprashant

छोड़ के गए हो या फ़िर तोड़ के गए हो
जो भी हो जीने की राह मोड़ के गए हो

©"अल्प" प्रशांत
Prashant Panchal
१७.१०.२०१९

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories