Free Hindi Poem Quotes by Anant Dhish Aman | 111747586

कविता ढह रही है
अंतर्मन में
शब्द चीख रही है
मन मन में ।।

क्यों मैं लिखी जाती
क्यों मैं पढी जाती
क्य

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories