Free Hindi Shayri Quotes by Falguni Shah | 111758204

ज़िंदगी कश्मकश-ए-इश्क़ में गुजरती रही
आफ़ताब ने जीने नहीं दिया
माहताब ने रोने नहीं दिया
-Falguni Shah ©

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories