Free Hindi Poem Quotes by Darshita Babubhai Shah | 111752161

मैं और मेरे अह्सास

बादल बरस रहे हैं l
आँखें छलक रही है ll

जाम के नशे में देख l
बातेँ छलक रही है ll

दुल्ह

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories