Quotes, Poems or Blogs | Matrubharti

न आंखो से देखी, न कानों से सुनी,
न ही जिस्म से महसूस हुई

पर मन कहता है,
एक खूबसूरत अनसुलझी पहेली हो तुम ।

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories