Hindi Poem by Darshita Babubhai Shah

Nmमैं और मेरे अह्सास

गैरमौजूदगी खटक रही थी तेरी आशियाने को l
रह रह के याद आ रहीं थी तेरी आशियाने को ll

एक दिन

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories