Hindi Book-Review by Amrut

दरिया हो या पहाड़ हो टकराना चाहिए
जब तक न साँस टूटे जिए जाना चाहिए

यूँ तो क़दम क़दम पे है दीवार सामने
कोई न ह

read more
Amrut 3 week ago

Thank you. 🙏

View More   Hindi Book-Review | Hindi Stories