Hindi Poem by Darshita Babubhai Shah

मैं और मेरे अह्सास

हर तमन्ना हर आरज़ू l
तुम पे शुरू और तुम्हीं से ख़त्म होतीं हैं ll
ये और बात है कि l
तुम पे

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories