Hindi Poem by Prateek Dave

कभी कभी वो पहला ख़त जो आखिरी बन जाता है
भावनाओं का ज्वार जो एक दीवार से जा टकराता है
कभी कभी उम्र बीत जाती है बस ये

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories