Free Hindi Poem Quotes by Heli | 111685461

.

जैसे मजधार में कश्ती है
ख़ुद समंदर उसे ढोता है

आशाएं ?
वो
बंजारों की बस्ती है
हर शाम बसेरा होता हैं

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories