Hindi Shayri by Pravin Khavda

तेरा नाम ही क्यों ये दिल रटता है,
क्यों ये दिल सिर्फ तुझ पे ही मरता है,
न जाने कितना नशा है तेरे इश्क में,
अब तो त

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories