Hindi Shayri by અંજાન K

जितना टूटना था टूट चुकी हूं में ,
जितना बिखरना था बिखर चुकी हूं,
मर तो में तभी गई जब आपने ठुकराया ,
ये जिस्म भी अ

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories