Hindi Shayri by Naranji Jadeja

आज़ फिर उसने वहीं किताबों वाला गुलाब केश पर सजाया है।
इस लिए तो चारों दिशाओं की हवाओं में मोहब्बत की महेक है।
नर

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories