Hindi Shayri by Raushani Srivastava

फ़न कुचलने का हुनर भी सिखिए, ज़नाब
सापों के डर से जंगल नहीं छोड़ा करते।

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories