Hindi Shayri by शब्दांकूर : 111615236

चाहे ठंड भलेही बाहर से मुझे परेशान करे
तेरी यादों की धूप मेरी हिफाजत करती है

-शब्दांकूर

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories