Gujarati Poem by Bhumika : 111604047

जहमत क्यों करे आसमां की चांदनी केलिए,

जब एक जुगनू काफी हे जिंदगी में रोशनी केलिए।

- "लिहाज"

View More   Gujarati Poem | Gujarati Stories