Free Hindi Thought Quotes by Divy | 111594240

चलो एक शाम और बीती..
एक और दिन ढला...

किसीसे न शिकवे हुए ना ही हुए गीले..

बस यही सोच कर चेन का एक चाँद और निकला...

read more

View More   Hindi Thought | Hindi Stories