Hindi Shayri by Chakly

ज़िंदगी सँवारने को तो
ज़िंदगी पड़ी है...
वो लम्हा सँवार लो....
जहाँ ज़िंदगी खड़ी है.

-Chakly

Deep Joshi 6 month ago

Superrrrrrr se bhi upperrt

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories