Hindi Poem by Darshita Babubhai Shah : 111580675

मे और मेरे अह्सास

इश्क ने रूठना शुरू किया है l
जीतना चाहता ही क्यू दिल है?

दर्शिता

Salil Upadhyay 1 month ago

दिल पे किसीका काबू नहीं

View More   Hindi Poem | Hindi Stories