Hindi Poem by Rajesh Mewade

प्रेम करना
और बिछड़ जाना
अखरता हैं

जैसे मेघ दिन रात
बरसता हैं

जैसे लहरों की चपेट में आकर
तिनका

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories