Hindi Poem by shekhar kharadi Idriya

#विधवा

विधवा की ऐ कैसी विवशता, कैसी विडंबना ?
सदियों की प्रथाके नाम पर , परंपर

read more
shekhar kharadi Idriya 8 month ago

दिल से धन्यवाद अस्मिता जी..👋

shekhar kharadi Idriya 8 month ago

दिल से धन्यवाद मित्र श्रेष्ठ जी 👏

shekhar kharadi Idriya 8 month ago

दिल से धन्यवाद पारुल जी 👏

shekhar kharadi Idriya 8 month ago

दिल से धन्यवाद तमन्ना जी 👏

View More   Hindi Poem | Hindi Stories