Hindi Shayri by ALOK SHARMA : 111572725

साज़िश करना हमे आता नही
यूँ बेवजह दिल तोड़ना भाता नही
काश तुम इत्तफाक से टकरा जाते
साँसों में हवा की तरह समा जा

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories