Hindi Poem by Smile : 111569464

यू समंदर भी गहरा और खुला आसमान
हैं समंदर भी नीला , और नीला आसमान

ना आसमान को सीमा, ना समंदर का अंत है
सल्तनत अ

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories