Hindi Shayri by Ketan Vyas : 111563306

खेदका जन्म है इसारा,
नई राह या दिशा को चुनने का -
मंज़िल पर पहोचनेसे पहले।

इशारों को समझ लो,
खेद है?
तो रा

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories