Hindi Shayri by Falguni Shah : 111559841

पनपते हैं ज़हन में कुछ एहसास

ठीक वैसे ही जैसे
वो आसमान कितना बड़ा है ना
पर
मुझे तो उतना ही उसे निहारना है

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories