Hindi Shayri by Vasu Bapu : 111556952

मैंने मैं को श्मशान में राख होते देखा है।
मैंने अहं को जमीं में ख़ाक होते देखा है।।

तुमसे पहले भी था शहंशाह क

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories