Hindi Thought by Pragya Chandna

इतना भी उग्र मत हो ए प्रकृति
कि तुम हमारा अस्तित्व ही मिटा दो।
माना कि हमारा अपराध बहुत बड़ा है,
पर अब उसे क्षम

read more

View More   Hindi Thought | Hindi Stories