Hindi Shayri by Kish : 111463614

कहीं बेहतर है तेरी अमीरी से मुफलिसी मेरी,
चंद सिक्कों की खातिर तूने क्या नहीं खोया है,
माना नहीं है मखमल का बिछौ

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories