Hindi Thought by Kaamini : 111428043

मानव की दुष्टता..के कारण प्रकृति की रुष्टता..अपनी चरम सीमा पर है

#Grudge

Kaamini 5 month ago

Sahi kaha aapne...par kahi na kahi..prakruti k sath jo khilvaad hota rha h itne barso se..tonye usika natija h k aaj sb ghar me bethe h..hawa saaf hui par chehre pe mask h...isse bura aur kya hi skta h?

करुनेश कंचन.. 5 month ago

...नहीं,प्रकृति कोई व्यक्ति नहीं जो बदला ले....वो हमें हमेशा ही खुश करने को है....यह ज़रूर है हमें इसका सिंगार करना होगा,इसका रख रखाव सुसज्जित करना होगा...💐💐💐👌👌

View More   Hindi Thought | Hindi Stories