Hindi Poem by Ankit Sachan

प्रकृति बदलती क्षण- क्षण देखो,
बदल रहे अणु, कण - कण देखो
तुम निष्क्रिय से पड़े हुए हो
भाग्य वाद पर अडे हुए हो

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories