Hindi Shayri by Pranjali Awasthi : 111367123

जी उठे थे जो अरमाँ तेरे पहलू में आकर
कह रहे हैं कि तुझे खबर न दूँ उनके मरने की

#pranjali<

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories