Hindi Shayri by Neepa Mehta : 111329690

हुई है जब से उल्फ़त
उनके रूख़सारों पर फैली लाली से
जमाना बिन कहे
हमारा नाम जान जाता है

लबों पर है ठहरा
read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories