Hindi Shayri by Deepak Tokalwad : 111324447

अभी हम खेले ही नही,
जिंदगी हार का जश्न मनाने लगी।
सब्र रख ऐ जिंदगी हमारी
जित पर तुझे नाचना भी है,
और मुजरा भ

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories