Hindi Poem by Mukteshwar Prasad Singh : 111322181

चिड़िया नहीं चहकती,
गायें नहीं मचलती,
सर्द हवा की सिहरन,
कोहरा में सांसे जमती।
क्षितिज की लाली धुँधली,

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories