Hindi Shayri by anjana Vegda : 111321838

तेरे जहां के ये लोग इस तरह से दिल बहलाते है,
किसी के लबो की हसी छीनके खुद मुस्कुराते है।
-@njana Vegda

Rudrarajsinh 8 month ago

तुम अपने दरवाज़े पे लिखवा क्यों नही देती, हमारे यहाँ सभी प्रकार के दिल दुखाये जाते हैं..

Er Bhargav Joshi 8 month ago

ક્યારેક એવું પણ બને

DR..... 8 month ago

Aisa hai kya?

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories