Hindi Poem by Pranjali Awasthi : 111314287

चलो कहीं दूर चलें जहाँ

बोलने पर सख्तियाँ न हों
गले में रिश्तों की तख्तियाँ न हों
आँखों में झाँकती मुहब्ब

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories