Hindi Shayri by Junaid Chaudhary

दिसंबर चल पड़ा घर से सुना है पहुँचने को है,
मगर इस बार कुछ यूं है के मैं मिलना नही चाहता
सितमगर से, मेरा मतलब दिसंब

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories