Hindi Poem by Mukteshwar Prasad Singh : 111284569

पास हैं पर दूर हैं ,

दूर रह कर नूर हैं।

कब आयेगी वह सुबह ,

क्यों मिलने को मजबूर हैं।

View More   Hindi Poem | Hindi Stories