Hindi Shayri by S Kumar : 111281963

परदानशीं हैं मेरे दिलबर
आयें कैसे रौनक ए महफिल में
डरतें हैं बस न जाये कोई
हंसी सा चेहरा इस दिल में

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories