Hindi Poem by DILIP MEHTA : 111235537

*दुनिया वो किताब है,*
*जो कभी नहीं पढी़ जा सकती,*

*लेकिन जमाना वो अध्यापक है,*
*जो सबकुछ सिखा देता है !!

View More   Hindi Poem | Hindi Stories