English Poem by Krushnasinh M Parmar

तू सच है या
है इक सपना,
जो है तेरा
लगता अपना ;
आंखों में बस
एक ही सपना,
हरपल तुझको
एक तक तकना ।
read more

View More   English Poem | English Stories