Quotes, Poems or Blogs | Matrubharti

हसरतों के सिक्के के लिए
उजाले को खरीदने के लिए निकले थे हम
उम्र की पहली गली में ही जिम्मेदारियों ने लूट लिया

read more

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories