Quotes, Poems or Blogs | Matrubharti

वो पागल ही तो थे, हमपे बेइंतेहा बरसते थे,
उन्हें क्या मालूम हम बेवफाई करने तरसते थे।

-पत्थर...

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories