Free English Poem Quotes by prema | 111757727

तुम रूठोगे तो रूठ जाना
मैं ही मनाऊंगी इस बार
तुम्हें तुम्हारी ही गलती पर।
नही रूकूंगी अब
डिनर के लिए देर रा

read more

View More   English Poem | English Stories