Free Hindi Blog Quotes by Zainab Makda | 111753407

जिनका जिक्र हाथों की
लकीरो में भी नहीं था
हम उसी से
टकरा गए.....

-Zainab

Abbas khan 3 week ago

वाह ज़ैनब,,,,,,जवाब नही।,,,👍👏👏👏👏

Zainab Makda 3 week ago

ओहो जोरदार अब्बासभाई 👌 हर राह पर उन्हें तलाश करती रही निगाहें काश यादों से निकल कर वो रूबरू हो जाते.....

Abbas khan 3 week ago

वाह क्या बात है ,,,,ज़ैनब,,,👏👏👏👏👏 हसरत भरी नज़र से वो देखता है मुझको , कुछ बोलता नहीं है बस सोचता है मुझको उनकी निगाह में कोई तो जादू ज़रूर था , जिस पर पड़ी उसीके जीगर तक उतर गई।,,,,

Zainab Makda 3 week ago

वाह क्या बात है अब्बासभाई..... 👌👌 ये जो झुकी नज़रों से इज़हार होता है, उन्हें जितनी बार देखु उतनी बार प्यार होता है.... जितनी दफा इन झुकी हुई नजरों से उनका दीदार होता है, खुदा कसम उतनी ही दफा इस दिल को उनसे फिर से प्यार होता है....

Abbas khan 3 week ago

वाह मस्त।✍✍👏👏👏 नजरों का टकराना फिर हल्का सा मुस्कुराना। ऐसा बार बार हो रहा था।   दिल की बातों का आँखों से बायां करे कोई तो कारोबार हो रहा था।  हाँ शायद हमे उनसे प्यार  हो रहा था।

View More   Hindi Blog | Hindi Stories