Free Hindi Shayri Quotes by Anant Dhish Aman | 111746763

गली गली में अब भटकता नहीं मैं,
अब किसी के दर पर ठहरता नहीं मैं ।।
अनंत

View More   Hindi Shayri | Hindi Stories