Hindi Tribute by Amit J.

मंजिल पाने के लिए मुराद होना जरूरी है और दरगाह में सर झुकाने के लिए भी मुराद होना जरूरी है

-Amit J.

View More   Hindi Tribute | Hindi Stories