Hindi Poem by Darshita Babubhai Shah

मैं और मेरे अह्सास

कभी कभी लगता है l
तू और तेरी यादे जीने का सहारा है l
तू और तेरे वादे जीने का सहारा है l
तू

read more

View More   Hindi Poem | Hindi Stories